Current Size: 100%

home

emblem
भारत सरकार Ministry of Electronics & Information Technology
Home

मेडिकल इलेक्ट्रॉनिकी एवं स्वास्थ्य विज्ञान प्रभाग में अनुसंधान एवं विकास

अवलोकन:

चिकित्सा के क्षेत्र में इलेक्ट्रॉनिकी की महत्वपूर्ण भूमिका को समझते हुए इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी विभाग (डाईआईटीवाई) ने सक्रिय उपायों की एक श्रृंखला शुरू की है। इनमें विकास के लिए देश भर में स्वास्थ्य सेवा केंद्र विकसित करना और चिकित्सा इलेक्ट्रॉनिक उपकरण उपलब्ध कराना शामिल है। विभाग मेडिकल इलेक्ट्रॉनिकी एवं स्वास्थ्य सूचना विज्ञान के क्षेत्र में कई अनुसंधान एवं विकास परियोजनाओं को प्रायोजित कर रहा है। इन प्रौद्योगिकियों में से कुछ के पहले ही अस्पताल कचरे के लिए 6 एमईवी लिनाक, बंद लूप संज्ञाहरण वितरण प्रणाली और माइक्रोवेव कीटाणुशोधन प्रणाली को वाणिज्यिक उत्पादन के लिए संभावित निर्माताओं के लिए स्थानांतरित कर दिया गया है। डाईआईटीवाई के तत्वावधान में कैंसर रोगियों के लिए विकिरण चिकित्सा 6 एमईवी मेडिकल लिनाक, (लिनियर एक्सीलेटर) महात्मा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान, वर्धा, कैंसर संस्थान, अड्यार, चेन्नई और संस्थान सिर और गर्दन के कैंसर विज्ञान, इंदौर (मध्य प्रदेश) में स्थापित कर दिया गया है।

प्रौद्योगिकी उत्पाद को नेत्रहीन लोगों के लिए विकसित किया है और सफलतापूर्वक देश भर में अंधे बच्चों के स्कूलों में इस्तेमाल किया जा रहा है। डाईआईटीवाई ने विशेषज्ञों के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों के दुर-दराज के रोगियों को गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य प्रदान करने के लिए टेलीमेडिसिन प्रौद्योगिकी विकसित की है। टेलीमेडिसिन पायलट परियोजनाओं के तहत, टेलीमेडिसिन केन्द्र विभिन्न राज्यों में स्थापित किए गए हैं। कई डॉक्टरों और सहयोगी स्टाफ को भी इस तकनीक के प्रयोग के लिए प्रशिक्षित किया गया है। टेलीमेडिसिन के लिए एक राष्ट्रीय संसाधन केंद्र संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान, लखनऊ में स्थापित किया गया है।

मेडिकल इलेक्ट्रॉनिकी एवं स्वास्थ्य विज्ञान प्रभाग के माध्यम से महत्वपूर्ण क्षेत्रों की पहचान

  • एमआरआई सहित चिकित्सा और इमेजिंग उपकरण।
  • इलेक्ट्रॉनिक स्वास्थ्य रिकार्ड एवं स्वास्थ्य सूचना विज्ञान में ऑनलाइन पाठ्य।
  • निर्णय समर्थन प्रणाली।
  • प्रशिक्षण के लिए बुनियादी सुविधा, मेडिकल इलेक्ट्रॉनिकी उपकरणों के रखरखाव।
  • मेडिकल इलेक्ट्रॉनिकी अनुसंधान एवं विकास के क्षेत्र में उत्कृष्टता केंद्र की स्थापना।
  • न्यूरो प्रौद्योगिकी सहित अगली / नई पीढ़ी की प्रौद्योगिकी का उपयोग करते हुए फ्यूचरिस्टिक अनुसंधान एवं विकास परियोजना।
  • सहायक प्रौद्योगिकियाँ और स्वतंत्र एआईडीएस का विकास।
  • परियोजनाएं
  • चालू परियोजनाएं
  • पूर्ण परियोजनाएं
  • अनुसंधान उत्पादन
  • वित्त पोषण प्रक्रिया

अनुसंधान उत्पादन

प्रौद्योगिकी स्थानांतरण (टीओटी)/व्यावसायीकरण:

  • पल्स आक्सीमीटर - प्रौद्योगिकी रील जयपुर के लिए स्थानांतरित।
  • अस्पताल के कचरे के लिए माइक्रोवेव कीटाणुशोधन प्रणाली - प्रौद्योगिकी एसएस चिकित्सा प्रणाली का स्थानांतरण लखनऊ।
  • मेडिकल लिनाक - प्रौद्योगिकी पानासीएबा मेडिकल टेक्नोलॉजीज बेंगलूर में स्थानांतरित।
  • बंद लूप संज्ञाहरण वितरण प्रणाली - प्रौद्योगिकी क्लियरीटी मेडिकल प्राइवेट लिमिटेड, मोहाली के लिए स्थानांतरित।

कॉपीराइट/पेटेंट-

  • अमेरिका, यूरोप और भारत में पेटेंट बंद लूप संज्ञाहरण वितरण प्रणाली।
  • (सेरवीस्कैन) पेटेंट भारत में लागू होता है।

बुनियादी ढांचा निर्माण:

  • टेलीमेडिसिन और जैव चिकित्सा सूचना के लिए लखनऊ में राष्ट्रीय संसाधन केंद्र।
  • लिनाक ट्यूबों के बैच निर्माण के लिए सुविधा, समीर खारगर कैम्पस नवी मुंबई।
  • इम्फाल और आइजोल में मेडिकल इलेक्ट्रॉनिकी लैब।

परियोजनाएं:

चालू परियोजनाएं:

मधुमेह रेटिनोपैथी (डीआर) समय पर उपचार के लिए पहचान सॉफ्टवेयर।
कार्यान्वयन एजेंसी: सी-डैक, तिरुअनंतपुरम

क्षेत्रीय संस्थान नेत्र विज्ञान, तिरुवनंतपुरम।

विवरण: रेटिना छवियाँ से मधुमेह-संबंधी रेटिनोपैथी की स्वचालित पहचान के लिए एक कुशल, विश्वसनीय और लागत प्रभावी प्रोटोटाइप विकसित करने के लिए इसकी स्थापना की गई है। मधुमेह आंखों की रेटिना सहित रक्त वाहिकाओं और नसों के नुकसान का कारण बनता है। जब यह रेटिना के नुकसान का कारण बनता है तब इसे मधुमेह रेटिनोपैथी (डीआर) के रूप में जाना जाता है। यह एक इन्टेलिजेन्ट निदान समाधान है, जो सामान्य छवियों को छान कर और संदिग्ध मामलों की स्क्रीनिंग में विशेषज्ञ का ध्यान आकर्षित करता है। यह नेत्र रोग विज्ञानियों का समय बचाने के साथ ही गलत इलाज से बचा कर उनके इलाज के भार को कम करने में मदद करता है।

संग्रहण की भविष्यवाणी के लिए बायोमेडिकल संकेत विश्लेषक।
कार्यान्वयन एजेंसी- सी-डैक, तिरुअनंतपुरम
श्री चित्रा आयुर्विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान, तिरुअनंतपुरम

विवरण- सह सॉफ्टवेयर ऑफ़लाइन ईईजी डेटा रिकॉर्डिंग के माध्यम से संग्रहण की भविष्यवाणी (प्रीकटल क्षेत्र का पता लगाने) का पता करने के लिए है। प्रणाली प्रीकटल क्षेत्र और मस्तिष्क तरंग तुल्यकालन के पैटर्न अंतर करने के लिए विशिष्ट रोगी स्वत: सीखने के लिए सक्षम हो जाएगा।

मैमोग्राम्स सीएडी और मैमोग्राम्स के लिए जांच प्रणाली कंप्यूटर एडेड का विकास।

कार्यान्वयन एजेंसी: सी-डैक, तिरुवनंतपुरम, आरसीसी तिरूवनंतपुरम
कलकत्ता विश्वविद्यालय, कोलकाता, पश्चिम बंगाल

विवरण: स्तन कैंसर के निदान और मैमोग्राम छवियों के विश्लेषण के लिए कम्प्यूटर एडेड सॉफ्टवेयर विकसित करना। प्रणाली से मैमोग्राम के दिनचर्या की रिपोर्टिंग और नकारात्मकता कम करने में रेडियोलाजिस्ट को मदद मिलेगी। प्रणाली का उद्देश्य स्तन कैंसर की जांच करना औऱ सामान्य छवियों को छान कर विशेषज्ञ रेडियोलॉजिस्ट द्वारा कैंसर का पता लगाने में मदद करना औऱ संदेहास्पद मामलों पर ध्यान आकर्षित करना है।

रेडियोलॉजिस्ट सामग्री आधारित छवि पुनर्प्राप्ति का उपयोग कर फेफडा सीटी औऱ स्वयं शिक्षण उपकरण और नैदानिक निर्णय समर्थन प्रणाली।

कार्यान्वयन एजेंसी: पीजीआईएमईआर चंडीगढ़, आईआईटी खड़गपुर

विवरण- डिजाइन और नैदानिक निर्णय समर्थन प्रणाली का विकास रेडियोलॉजिस्ट सामग्री आधारित छवि पुनर्प्राप्ति या फेफड़ों की गणना टोमोग्राफी और उच्च संकल्प गणना टोमोग्राफी (एचआरसीटी) छवियों का उपयोग स्वयं सीखने और विभेदक निदान उपकरण के लिए। सामग्री आधारित छवि पुनर्प्राप्ति या फेफड़ों की गणना टोमोग्राफी द्वारा नैदानिक निर्णय समर्थन प्रणाली का डिजाइन और विकास के साथ रेडियोलॉजिस्ट को स्वयं सीखने के लिए उच्च संकल्प गणना टोमोग्राफी (एचआरसीटी) छवियों का उपयोग करना और विभेदक निदान उपकरण का प्रयोग।

स्वास्थ्य डिलिवरी के लिए मोबाइल डिवाइस केंद्रित पर्यावरण का डिजाइन और विकास।
कार्यान्वयन एजेंसी- पीजीआईएमईआर चंडीगढ़, आईआईआईटी दिल्ली।

विवरण: स्वास्थ्य सेंसर के साथ जोडने के लिए फ्रन्ट इन्ड आवेदन के साथ मोबाइल डिवाइस मिड्लवेयर, स्वास्थ्य डेटा रिकॉर्ड करने के लिए ब्लूटूथ / यूएसबी और ईएमआऱ प्रणाली से स्वास्थ्य सेंसर के साथ इंटरफेस करने के लिए हार्डवेयर घटक का डिजाइन और विकास।

नैदानिक रसायन विज्ञान के लिए पीसी आधारित स्वचालित बैच विश्लेषक का विकास
कार्यान्वयन एजेंसी- सीएसआईओ चंडीगढ़, वी आई टी वेल्लोर

विवरण: निदान के क्षेत्र में, एक चिकित्सक को त्वरित रिपोर्ट और सटीक परिणाम की जरूरत है। पीसी आधारित बैच विश्लेषक प्रणाली में निश्चित समय पर स्थिर दर से 37 डिग्री सेल्सियस पर जैविक तरल पदार्थ में एंजाइम गतिविधि और सब्सट्रेट एकाग्रता का निर्धारण करने के लिए अंत बिंदु और गतिज तरीकों का इस्तेमाल किया जाता है। इस प्रणाली में रोगी और परीक्षण का स्वचालित रूप से चयन हो रहा हैं। यह एक समय में 18 विभिन्न रोगियों का इलाज कर काम के बोझ को कम करता है। सॉफ्टवेयर ऑपरेटर से विभिन्न बैचों में बिना बदलाव किए पूरी दिनचर्या में कार्य करने की अनुमति होगी।

दोहरी फोटोन ऊर्जा और एकाधिक इलेक्ट्रॉन ऊर्जा एकीकृत कैंसर विज्ञान प्रणाली
कार्यान्वयन एजेंसी- समीर मुंबई

विवरण- इस परियोजना में 6, 9, 12, 15 और 18 एमवी की ऊर्जा के साथ 6 और 15 एमवी और इलेक्ट्रॉनिक बीम की दोहरी फोटोन ऊर्जा किरण के साथ मेडिकल लिनक का विकास शामिल है।
दोहरी ऊर्जा फोटोन, रेडियोथेरेपी में अधिक व्यापक उपचार विकल्प की अनुमति देता हैं। यह मशीन इलेक्ट्रॉन विकल्प के साथ फोटोन उत्पादन और अल्पज्ञता स्थित कैंसर के साथ गहरे ट्यूमर के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकती है। विभिन्न उप-प्रणालियों के विकास का कार्य प्रगति पर है।

कैंसर के इलाज के लिए एमवी मेडिकल लीनियर एक्सीलेटर- जय विज्ञान द्वितीय चरण प्रस्ताव।

कार्यान्वयन एजेंसी- समीर मुंबई

विवरण: जय विज्ञान मिशन परियोजना के पहले चरण के दौरान रैखिक त्वरक मशीनों की तैनाती के लिए दो मशीनें (सिद्धार्थ 1&2) विकसित की गई है। जिन्हें महात्मा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान, वर्धा और क्षेत्रीय कैंसर केंद्र (आरसीसी) अड्यार में लगाया गया है। इन दोनों मशीनों का इस्तेमाल कैंसर रोगियों के उपचार के लिए किया जा रहा है। इन मशीनों का उपयोग कर 1, 40,000 से अधिक कैंसर रोगीयों का इलाज किया गया है। इस गतिविधि के दूसरे चरण के दौरान, चार अस्पतालों में कैंसर के इलाज के लिए छह एमवी चिकित्सा रैखिक त्वरक (लिनाक) मशीनों को तैनात करने की परिकल्पना की गई है। सभी चार अस्पतालों को चिन्हीत कर लिया गया है और इन अस्पतालों में साइट तैयार करने का कार्य प्रगति पर है। सिद्धार्थ 3 लिनक मशीन को इंदौर अस्पताल में भेजा गया है और रोगी उपचार शुरू किया गया है। अस्पताल साइटों के तैयार हो जाने पर शेष 3 मशीनों को स्थापित किया जाएगा।

प्रौद्योगिकी के साथ आभासी वास्तविकता आधारित न्यूनतम इनवेसिव सर्जरी सिम्युलेटर

कार्यान्वयन एजेंसी- भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मद्रास, सीएमसी, वेल्लोर

विवरण- लेप्रोस्कोपिक प्रक्रिया और हार्डवेयर विशेष रुप से प्रशिक्षु सर्जन के स्वास्थ्य सेवा परिणाम में बेहतर प्रतिक्रिया दे सकते हैं आभासी वास्तविकता प्रणाली, लेप्रोस्कोपिक कौशल के लिए अधिग्रहण औऱ लेप्रोस्कोपिक अनुकरण के लिए सॉफ्टवेयर को विकसित करने की आवश्यकता है। सर्जिकल सिमुलेशन सॉफ्टवेयर के चार मॉड्यूल ऊतक और अंग मॉड्यूल; टक्कर का पता लगाने वाला मॉड्यूल; टक्कर प्रतिक्रिया मॉड्यूल और आभासी दृश्य मॉड्यूल होंगे। बुनियादी संरचना के माध्यम से इन चारों मॉड्यूल को किसी भी चिकित्सा सिमुलेशन प्रणाली में आसानी से लागू किया जा सकता है।

उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में मेडिकल इलेक्ट्रॉनिकी लैब और मेडिकल की ट्रेनिंग और पैरामेडिकल कर्मियों की स्थापना के लिए विस्तार।
कार्यान्वयन एजेंसी- राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान, आइजोल

विवरण- मेडिकल इलेक्ट्रॉनिकी उपकरणों के परीक्षण, अंशांकन, मरम्मत, रखरखाव और मिजोरम राज्य के विभिन्न अस्पतालों के मेडिकल और पैरा मेडिकल स्टाफ को प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान, आइजोल में मेडिकल इलेक्ट्रॉनिकी प्रयोगशाला की स्थापना।

राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान, अगरतला में मेडिकल इलेक्ट्रॉनिकी प्रयोगशाला का सेट-अप।
कार्यान्वयन एजेंसी- राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान, अगरतला।

विवरण- त्रिपुरा और उत्तर पूर्व के विभिन्न अस्पतालों में मेडिकल इलेक्ट्रॉनिकी उपकरणों के अंशांकन, मरम्मत और रखरखाव के लिए मेडिकल इलेक्ट्रॉनिकी की स्थापना करना।

राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान, शिलांग में मेडिकल इलेक्ट्रॉनिकी प्रयोगशाला का सेट-अप।

कार्यान्वयन एजेंसी- राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान शिलांग।

विवरण- पैरा मेडिकल एवं सरकार के मेडिकल स्टाफ को प्रशिक्षण के साथ ही निजी अस्पतालों के मेडिकल इलेक्ट्रॉनिकी उपकरणों का परीक्षण, अंशांकन, मरम्मत और रखरखाव के लिए राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान, शिलांग मेघालय में मेडिकल इलेक्ट्रॉनिकी प्रयोगशाला की स्थापना।

पूर्ण परियोजनाएं:

बंद लूप संज्ञाहरण वितरण प्रणाली का डिजाइन और विकास

पीजीआईएमईआर द्वारा बंद लूप संज्ञाहरण वितरण प्रणाली चंडीगढ़ में विकसित की गई है, जो संवेदनाहारी दवाओं के वितरण के लिए सिरिंज आसव पंप और रोगीयों की निगरानी और मरीज की हालत के निरंतर प्रतिक्रिया के रूप में रोगी विशेषताओं के आधार पर इन सिरिंज पंप को नियंत्रित करने के लिए एल्गोरिथ्म का उपयोग करता है, जो एक कंप्यूटर द्वारा नियंत्रित होते हैं।

विकिरण क्षेत्र विश्लेषक का विकास (आरएफए)

विवरण- आरएफए का प्रयोग वाटर क्युबोडिस में चिकित्सा रेखीय त्वरक के विकिरण बीम प्रोफाइल को मापने के लिए किया जाता है। विकिरण चिकित्सा उपचार योजना प्रक्रिया में विकिरण स्रोत से उत्पन्न विकिरण निर्धारित करने के लिए आवश्यक है और रोगी के शरीर के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। स्थानीय नियंत्रण और जटिलताओं की संभावनाओं से खुराक के प्रति संवेदनशील कार्य कर रहे हैं। इसलिए, शरीर के भीतर सभी महत्वपूर्ण बिंदुओं कै लिए खुराक का सही ज्ञान आवश्यक है।

त्रिपुरा में डब्लूसीएस द्वारा रिमोट सीएचसी-पीएचसी टेलीमेडिसिन की तैनाती, कोलकाता और आईआईटी खड़गपुर

विवरण- परियोजना का उद्देश्य त्रिपुरा के दूरदराज के इलाको में पीएचसी - सीएचसी में टेलीमेडिसिन और टेलीमेडिसिन त्रिपुरा के दूरदराज के ग्रामीण क्षेत्रों में रोगों की विभिन्न श्रेणियों में स्वास्थ्य देखभाल सेवा प्रदान करना और इस तरह राज्य के विस्तृत क्षेत्र में टेलीमेडिसिन सेवा के माध्यम से आईसीटी के लाभ सुविधाएं स्थापित करना है। टेलीमेडिसिन सिस्टम दो रेफरल अस्पतालों में लगाया गया है। जीबीपी अस्पताल, अगरतला, आईजीएम हॉस्पिटल, अगरतला और छह नोडल अस्पतालों में रोगी परामर्श के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है।

पल्स आक्सीमीटर का प्रौद्योगिकी उन्नयन।
विवरण- पल्स आक्सीमीटर पोर्टेबल है, ऑक्सीजन संतृप्ति की गैर इनवेसिव निगरानी हाइपोइक्मीआ की शीघ्र पहचान को सक्षम बनाता है। पल्स आक्सीमीटर मूल रूप से ऑक्सीजन संतृप्ति, ऑक्सीजन और पल्स दर के साथ संतृप्त हीमोग्लोबिन का प्रतिशत का पता लगाने का उपाय है। प्रौद्योगिकी सीएसआईओ, चंडीगढ़ द्वारा विकसित की गई और रील, जयपुर में स्थानांतरित कर दिया गया।

सीएसआईओ, द्वारा विकिरण चिकित्सा के लिए इलेक्ट्रॉनिक पोर्टल इमेजिंग डिवाइस का डिजाइन और विकास, चंडीगढ़ और वी आई टी वेल्लोर।

विवरण- कैंसर के उपचार के लिए आधुनिक विकिरण चिकित्सा उन्नत रेखीय त्वरक (लिनाक) और उपचार योजना प्रणाली का उपयोग किया जाता है। छवि-गाइडेड रेडिएशन थेरेपी और तीव्रता-संग्राहक विकिरण थेरेपी से इलेक्ट्रॉनिक पोर्टल इमेजिंग उपकरण वास्तविक समय इमेजिंग के साथ सीटी योजना औरसिस्टम कम्प्यूटेशनल जानकारी के आधार पर कर रहे हैं। ईपीआईडी लिनाक मशीन के साथ एकीकृत एक कैमरा आधारित फ्लैट पैनल डिटेक्टर इमेजिंग तकनीक है। विकिरण उपचार शुरू करने या मरीज की स्थिति का पता करने में मदद करता है और वांछित क्षेत्र को लक्षित करने का कार्य करता है। ईपीआईडी मरीज की स्थिति की छवि को दर्शाता है और बीम या आसपास के सामान्य ऊतकों के नुकसान के माध्यम से त्रुटि की गणना में मदद करता है।

2.6 मेगावाट एस-बैंड टयूनेबल स्पंदित माइक्रोवेव ओवन का डिजाइन और विकास

विवरण- 2.6 मेगावाट पल्स माइक्रोवेव ओवन को सीईईआरआई पिलानी द्वारा विकसित किया गया और समीर मुंबई द्वारा 6 एमवी लिनाक पर इसका परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा हो चुका है। मैगनिट्रोन एक उच्च शक्ति माइक्रोवेव स्रोत है, जो आवश्यक तरंगदैर्ध्य और तीव्रता से एक्स-रे उत्पादन के लिए ऊर्जा के इलेक्ट्रॉन बीम के त्वरण के लिए लिनाक मशीन में इस्तेमाल किया जाता है। माइक्रोवेव ओवन बड़े पैमाने पर चिकित्सा, औद्योगिक और सुरक्षा अनुप्रयोगों के लिए उपयोग किया जाता है। मैगनिट्रोन रैखिक त्वरक आधारित एक्स-रे मशीनों में इस्तेमाल के लिए एक किफायती समाधान है।

रैखिक त्वरक (लिनाक) रैखिक त्वरक मशीनों के लिए ट्यूब बैच निर्माण सुविधा की स्थापना

विवरण- चिकित्सा औद्योगिक अनुप्रयोगों के लिए 6 एमवी लिनाक ट्यूब और लिनाक मशीनों के भविष्य बैच उत्पादन के साथ ही बुनियादी सुविधाओं की स्थापना करने के लिए, डाईआईटीवाई नवी मुंबई, खारागढ परिसर में एक विशेष बुनियादी ढांचे का निर्माण किया गया था। बैच उत्पादन सुविधा की स्थापना पूरी हो गयी है। सुविधा का अंकन प्रगति पर है। बेंच अंकन पूरा होने के पर, लिनाक ट्यूब बनाये जा सकते है और पूर्ण चिकित्सा लिनाक मशीन का परीक्षण और उपलब्ध बुनियादी सुविधाओं का उपयोग कर मूल्यांकन किया जा सकता है।

आरसीसी तिरूवनंतपुरम के विशेष संदर्भ में कैंसर विज्ञान के लिए डेटा प्रबंधन प्रणाली का विकास

विवरण- सी-डैक तिरुवनंतपुरम, विभाग द्वारा वित्त पोषित परियोजना के तहत, एकीकृत एचआईएस-ईएमआर प्रणाली विकसित किया गया है और आरसीसी, तिरुवनंतपुरम में स्थापित किया है। प्रणाली केंद्र के कई कैंसर क्लीनिक में पिछले दो वर्षों से कार्य कर रही है।

चिकित्सा छवियों के लिए सामग्री-आधारित छवि पुनर्प्राप्ति

विवरण- परियोजना को जूनियर रेडियोलॉजिस्ट के प्रशिक्षण के लिए आईसीटी में प्रदर्शन के उद्देश्य से लागू किया गया था। सिस्टम को व्याख्या के साथ छवियों को वापस प्राप्त कर रेडियोलॉजिस्टों को प्रशिक्षण के लिए आईआईटी खड़गपुर द्वारा विकसित किया गया है।

एसजीपीजीआईएमएस लखनऊ में टेलीमेडिसिन के लिए राष्ट्रीय संसाधन केंद्र

विवरण- इस परियोजना के तहत टेलीमेडिसिन और जैव चिकित्सा सूचना विज्ञान क्षेत्र में एक उत्कृष्टता केंद्र बनाया गया है। केन्द्र को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण द्वारा नेशनल मेडिकल कॉलेज नेटवर्क के लिए राष्ट्रीय संसाधन केंद्र के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके तहत विभिन्न राज्यों और विदेशी पेशेवरों को भी केंद्र में प्रशिक्षित किया गया है।

सिक्किम के नेत्रहीनों बच्चों के लिए ई पढ़ना और ई-कक्षा प्रणाली की स्थापना आईटी सहायता प्रदान साइन लैंग और शब्दावली सुनवाई और सिक्किम के बच्चों के साथ प्रभावित बच्चों के लिए सॉफ्टवेयर सीखाना।

सिक्किम के गूगें और बधिर प्रभावित बच्चों के लिए आईटी हस्ताक्षर लैंग और शब्दावली लर्निंग सॉफ्टवेयर और सिक्किम के नेत्रहीनों के बच्चों के लिए ई-रिडींग और ई-क्लासरुम प्रणाली की स्थापना।

विवरण- सूचना प्रौद्योगिकी द्वारा इस परियोजना को सहायता प्रदान की जाती है। इस परियोजना में सिक्किम के गूगें और बधिर प्रभावित बच्चों के लिए आईटी हस्ताक्षर लैंग और शब्दावली लर्निंग सॉफ्टवेयर और सिक्किम के नेत्रहीनों के बच्चों के लिए ई-रिडींग और ई-क्लासरुम प्रणाली की स्थापना की गई है।

बच्चों में भाषण दोष का कम्प्यूटेशनल विश्लेषण और अनुवर्ति चिकित्सा का विकास।

विवरण- इस परियोजना का उद्देश्य आम तौर पर संकेत विश्लेषण के विभिन्न उपकरणों का उपयोग कर बच्चों में भाषा विकारों की जांच करना है। एनबाआरसी द्वारा प्रणाली को विशेष रूप से चिकित्सकों के लिए भाषण पैथोलॉजिस्ट में सहायता करने के लिए मानेसर, हरियाणा में विकसित किया गया है। भाषण चिकित्सक और भाषण विकारों के पूर्व निदान में मनोचिकित्सकों और बच्चों को बेहतर बनाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

ओनकोनेट केरल परियोजना को कवरेज प्रदान करने के लिए मोबाइल टेली कैंसर विज्ञान सिस्टम आधारित आईसीटी का क्रियान्वयन एवं विकास।

विवरण- ऐसे रोगी जो आरसीसी, तिरुवनंतपुरम में कैंसर के इलाज के लिए आए है उनको अनुवर्ती परामर्श प्रदान करने, कैंसर का पता लगाने, गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर के लिए इलाज, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रमुख चिकित्सा सुविधाओं का उपयोग और बीमारी के बारे में जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने के लिए इसकी स्थापना की गई है। नवीनतम नैदानिक उपकरणों के साथ पूरी तरह से सुसज्जित टेलीमेडिसिन बस, इलाज सुविधा और वीडियो कान्फ्रेंसिंग सुविधा (वी-सैट) सी-डैक, त्रिवेन्द्रम द्वारा विकसित की है और मालाबार कैंसर केयर सोसायटी (एमसीसीएस) को प्रदान की गई है। इस परियोजना के तहत उत्तरी केरल के पांच जिलों कासरगोड, वायनाड, कन्नूर, मलप्पुरम और कोझीकोड के 318 पंचायतों को कवर किया जाएगा।

गर्भाशय ग्रीवा कैंसर के लिए चिकित्सा छवि विश्लेषक का विकास

विवरण- गर्भाशय ग्रीवा कैंसर दुनिया भर में महिलाओं में दूसरा सबसे आम कैंसर है। इससे 288,000 महिलाओं की हर साल मौत होती है। गर्भाशय ग्रीवा कैंसर के लिए चिकित्सा छवि विश्लेषक का विकास और जल्दी पता लगाने और गर्भाशय ग्रीवा कैंसर की जांच के लिए कम लागत, अर्द्ध स्वचालित प्रणाली विकसित की गई है। इस प्रणाली को डिजिटल माइक्रोस्कोप का उपयोग कर पीएपी-स्मीयर छवियों और पूर्व कैंसर घावों का पता लगाने के लिए उन्नत छवि विश्लेषण के रुप में सी-डैक, त्रिवेन्द्रम, और आईआईटी खड़गपुर एवं आरसीसी त्रिवेंद्रम द्वारा विकसित किया गया है।

मेडिकल लीनियर एक्सीलेटर मशीन में इस्तेमाल के लिए मल्टीलिफ कोलीमेटर का विकास और डिजाइन- समीर, मुम्बई द्वारा

विवरण- मल्टीलिफ कोली मेटर रेडियोथेरेपी में उपचार के लिए रेखीय त्वरक का उपयोग किया जाता है। मल्टीकोली विकिरण चिकित्सा वितरण के लिए आवश्यक घटक बन गया है। प्रौद्योगिकी तीव्रता संग्राहक विकिरण चिकित्सा बीम के आकार के आधार पर ट्यूमर के लिए आवश्यक खुराक प्रदान करता है। प्रौद्योगिकी बीम डीलिवरी के दौरान तीव्रता संग्राहक विकिरण चिकित्सा बीम के आकर के आधार पर ट्यूमर के लिए लिफ समायोजित कर आवश्यक खुराक प्रदान करती है।

वितरित, स्केलेबल, और विश्वसनीय हेल्थकेयर जानकारी स्टोर के निर्माण के लिए प्रौद्योगिकी का विकास - सी-डैक पुणे और एसआईसीएस स्वीडन द्वारा

विवरण- परियोजना के तहत चिकित्सा सूचना विज्ञान के क्षेत्र में हर व्यक्ति के लिए एक एकल इलेक्ट्रॉनिक स्वास्थ्य रिकार्ड वितरित, स्केलेबल, और विश्वसनीय स्वास्थ्य सूचना दुकान प्रणाली का निर्माण करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। यह परियोजना विकसित रूपरेखा के लिए सभी संभव स्रोतों से स्वास्थ्य रिकार्ड के एकीकरण के लिए एक मंच प्रदान करती है। ढांचा आवेदन डेवलपर्स ढांचा सेवाओं का निर्माण और इलेक्ट्रॉनिक स्वास्थ्य रिकार्ड के भंडारण के लिए वितरित स्वास्थ्य स्टोर का उपयोग कर सकते हैं जो ईएचआर एपीआई द्वारा प्रदान किया जाता है। परियोजना सी-डैक पुणे, एसआईसीएस (स्वीडिश कम्प्यूटर साइंस संस्थान) के बीच सहयोग से शुरु की गयी थी।


 

स्वचालित ट्रैक्शन यूनिट का डिजाइन और विकास- सी-डैक, मोहाली द्वारा

विवरण- स्वचालित कर्षण इकाई (एटीयू-2एम) भौतिक चिकित्सा प्रयोजनों के लिए सटीक कर्षण बल उपलब्ध कराने के लिए बनायी गयी एक पूर्ण व्यवस्था है। पुल अंतर-कशेरुकी के दबाव से राहत देने के लिए ग्रीवा रीढ़ की मांसलता और संयोजी ऊतक घटकों में फैलाव करता है; जिससे जुड़े ग्रीवा और काठ के दर्द से राहत मिलती है।