Current Size: 100%

home

emblem
भारत सरकार Ministry of Electronics & Information Technology
Home

कार्मिक मामलें

करें-

  • याद रखें सतर्कता केवल सतर्कता विभाग की नहीं बल्कि काम करने वाले सभी कर्मचारियों की जिम्मेदारी है, सतर्कता मुख्य रूप से एक प्रबंधन कार्य है।
  • एक लोक सेवक के रूप में एक अच्छे नागरिक और सतर्क पेशेवर के रुप में रहे औऱ साथ ही दूसरे आपके बारे में क्या सोचते है या क्या बाते करते है इस पर अपने आप का आवधिक आत्म मूल्यांकन या आत्म-विश्लेषण करें।
  • कार्य में पूर्ण निष्ठा और भक्ति बनाए रखें।
  • हमेशा विश्वास और संकल्प में दृढ़ रहें।
  • हर किसी के साथ ईमानदार और अच्छी तरह से व्यवहार करें, जब तक की आरोप साबित न हो।
  • हमेशा याद रखें की भ्रष्टाचार हमेशा छोटे स्तर पर शुरू होता है।
  • भ्रष्टाचार को रोकने के लिए त्वरित और कड़ी कार्रवाई करें। यह संगठन के नैतिक स्तर में वृद्धि करेगा और ईमानदारी के लिए प्रोत्साहित करेगा और भ्रष्ट लोगों पर दबाव बनाएंगा।

न करें-

  • एक कर्मचारी के खिलाफ मामलें के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका न निभायें।
  • कभी भी स्थानीय दबाव में या विभाग के बाहरी दबाव के तहत सतर्कता मामला दर्ज न करायें।
  • जल्दबाजी में या दोषपूर्ण निष्कर्ष न दें।
  • पूर्वग्रहों, दबाव, और अनुमान से दूर रहें।
  • किसी से भी अनुचित पक्ष के लिए न पूछें।
  • किसी भी गैर हकदार सुविधा की पेशकश का लाभ न उठायें।

करें-

  • अपने विभाग के भीतर सभी संवेदनशील और भ्रष्टाचार के स्थानों पर नजर रखने के लिए योजना बनायें और सूचना चैनल का विकास करें।
  • हमेशा किसी भी स्रोत से प्राप्त विशिष्ट आरोप की प्रामाणिकता की पुष्टि करें। निवारक और जांच के परिणाम में गुणात्मक रहें। मात्र आँकड़ो के आधार पर प्रभावित न हों।
  • सार्वजनिक स्थानों पर आश्चर्यजनक और अक्सर दौरा करते रहें, यह आपको घटनाओं की एक अच्छी प्रतिक्रिया दे देगा।
  • योजना, भ्रष्टाचार और कदाचार का पता लगाने के क्रम में नियमित रूप से निरीक्षण और आश्चर्यजनक दौरा करते रहें।
  • अपने कार्यक्षेत्र मे संवेदनशील स्थलों का पता लगायें और इस स्थानों पर तैनात कर्मियों का नियमित और आकस्मिक निरीक्षण करते रहें।
  • संदिग्ध व्यक्तियों पर जो आप के तहत काम कर रहे समुचित निगरानी रखें। रसीदें, फ़ाइलें आदि को निपटाने के लिए निश्चित समय सीमा रखें, और इसे सख्ती से लागू करें।

न करें-

  • फाइलों के निर्णय या आगे बढाने में कभी देरी न करें। विलंब संदेह और भ्रष्टाचार को जन्म देता है। यहां तक कि देरी लोगों के मन में संदेह पैदा करती हैं। याद रखें त्वरित निर्णय में गलतियों का प्रतिशत लंबा खींचे गये निर्णय की अपेक्षा कम होता है।
  • किसी भी व्यक्ति से व्यक्तिगत हिसाब बराबर करने के लिए या बदला लेने के लिए कुछ न करें।
  • किसी को भी एक विशेष सीट पर बैठनें की अनुमति न दें। अपने विभाग के भीतर एक कर्मचारी के हस्तांतरण/स्थानांतरण पर नजर रखें।
  • इंटर विभाग स्थानान्तरण किया जाना चाहिए। किसी को भी अधिक से अधिक तीन साल तक एक सीट पर बैठने की अनुमति न दें। जब तक की कर्मचारी विशेष रूप से उसी नौकरी के लिए भर्ती न किया गया हो।
  • सतर्कता मामलों में जब भी जरूरत हो सतर्कता विभाग की मदद लेने में संकोच न करें। यह कंपनी की भलाई में होगा।
  • प्राधिकारी से प्राप्त किसी निर्देश को टालने की कोशिश न करें। अपनी आदतों में असाधारण न बनायें।

करें-

  • अखंडता से संबंधित आचरण नियमों का शीघ्र अनुपालन सुनिश्चित करें।
  • आस्तियों और अधिग्रहण का विवरण।
  • उपहार।
  • लेन-देन।
  • कंपनी/संगठनों में रिश्तेदारों के साथ व्यापार न करें।
  • आप के तहत काम कर रहें प्रत्येक कर्मचारी के कर्तव्यों और जिम्मेदारियों को परिभाषित करें, उनकी भूमिकाओं में कोई अस्पष्टता न छोड़ें।
  • पदोन्नति के लिए नाम को प्रायोजित करते समय, कर्मचारी के साथ निष्ठा सुनिश्चित करें और इस संबंध में अपनी संतुष्टि के लिए एक प्रमाण पत्र जारी करें।
  • बिक्री की जानकारी को रोकने के लिए कदम उठाया जाना चाहिए। संबंधित सूचना को गुप्त रूप से न रख कर सार्वजनिक और स्वतंत्र रूप से उपलब्ध कराया जाना चाहिए।
  • अपनी देखरेख में क्षेत्रों और कर्मियों के बारे में प्राप्त शिकायतों के साथ तुरंत निपटने के लिए एक कुशल मशीनरी/प्रणाली का विकास करना चाहिए।
  • तथ्य और सबूत इकट्ठा करने में उद्देश्य होना चाहिए- मौखिक और दस्तावेज को अवगुण मुक्त बनाए रखने के लिए।
  • जांच करते समय हमेशा उचित और निष्पक्ष रहें और व्यक्तिगत पूर्वाग्रहों और प्रभावों से दुर रहें।

न करें-

  • जहाँ भी लगता है यह बोझिल प्रक्रिया है वहाँ सुधार का सुझाव देने में संकोच न करें, ऐसा करना भ्रष्टाचार और कु-प्रथाओं के लिए अवसर प्रदान कर सकता है।
  • न भूलें की भ्रष्टाचार आपके संगठन की अच्छी छवि को बिगाड सकता है। इसलिए ऐसा न करें।
  • कंपनी के नियमों के किसी भी उल्लंघन पर ढिलाई न दिखाएं। स्थिति की मांग के अनुरूप तत्काल निवारक या दंडात्मक कार्रवाई करें।
  • न भुलें की आपकी सतर्कता कंपनी प्रक्रिया में, उठाईगिरी, संसाधन रिसाव और अन्य अनुत्पादक गतिविधियों को रोकनें और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद कर सकती हैं।
  • किसी विशेष कर्मचारी या कनिष्ठ के ज्यादा करीब न हो अन्यथा, आपकी निष्पक्षता पर सवाल उठाया जा सकता है।
  • फर्म कार्रवाई के मामलों में निर्णय लेने में संकोच न करें।
  • समय पर अपनी संपत्ति रिटर्न जमा करना न भूलें।
  • संगठन के कर्मचारियों में विश्वास दिलाने के लिए जांच हमेशा उद्देश्यपूर्ण के तरीके से और उचित गति से करें।
  • संगठन के हितैषी के रूप में सतर्कता विभाग से विचार करें और अपने पूरे मन से सहयोग करें।
  • याद रखें रोकथाम इलाज की तुलना में बेहतर है और भ्रष्टाचार की रोकथाम की तुलना में दोषी के लिए पोस्ट-भ्रष्टाचार बेहतर है। इसलिए, भ्रष्टाचार के बारे में जनता को संवेदनशील करने के लिए, मुख्य सतर्कता आयोग कार्यालय के स्वागत कक्ष में अंग्रेजी और स्थानीय भाषा भाषाओं में निम्न संदेश युक्त एक मानक नोटिस बोर्ड प्रदर्शित किया गया है- रिश्वत न दें। इस कार्यालय में अगर कोई किसी को रिश्वत देने के लिए कहता है या आपको इस कार्यालय में भ्रष्टाचार के संबंध में किसी भी प्रकार की जानकारी है या आप इस कार्यालय में भ्रष्टाचार का शिकार हैं, तो आप इस विभाग या मुख्य सतर्कता अधिकारी या केंद्रीय सतर्कता आयोग के प्रमुख से उनके खिलाफ शिकायत कर सकते है। (शिकायत करने के लिए नाम, पूरा पता और टेलीफोन नंबर भी उपलब्ध है)
  • याद रखें जहां सतर्कता समाप्त होती है, वहाँ समस्या शुरू होती है।

न करें-

  • कभी मत भूलें की सभी निर्णय संगठन के हित में और उचित कारणों से लिया जाना चाहिए। छोटी प्रक्रियात्मक अनियमितताओं को अनदेखा किया जा सकता है, लेकिन मन-मानापन से बचना चाहिए। लेकिन प्रक्रियात्मक विचलन के कारणों को दर्ज करना न भूलें।
  • किसी भी अधीनस्थ के आचरण के पहलू को ध्यान में रखना मत भुलें, जैसे रहने का तरीका या मनोरंजन की शैली ऐसे काम संदेह को जन्म दे सकते है।
  • अस्पष्ट आदेश न दें। वे अनियमितताओं का आधार हो सकते हैं।
  • आपको सतर्कता विभाग का भय नहीं होना चाहिए। सच कहूँ तो सतर्कता विभाग ईमानदार लोगों का एक दोस्त है।