Current Size: 100%

home

emblem
भारत सरकार Ministry of Electronics & Information Technology
Home

विभागीय जांच

जांच अधिकारी (आईओ)

करें-

  • प्रारंभिक सुनवाई में जांच अधिकारी द्वारा दोषी से यह पूछना चाहिए की वह दोषी है या नहीं। अगर अधिकारी आरोपी हैं तो दलील को स्वीकार करें और जांच आगे बढ़ायें।
  • नियमित सुनवाई के लिए आगे बढ़ने से पहले, प्रारंभिक सुनवाई के दौरान अतिरिक्त दस्तावेज इक्टठा करना आवश्यक है। आरोपी अधिकारी द्वारा उद्धृत अतिरिक्त दस्तावेजों के बाद ही नियमित सुनवाई तय करना चाहिए।
  • निश्चित दिन पर नियमित सुनवाई शुरू कर देना चाहिए और एक बार नियमित सुनवाई शुरू होने के बाद मामला दिन-प्रतिदिन सुना जाता है। जांच अधिकारी (आईओ) की संतुष्टि अपरिहार्य है और पर्याप्त कारणों के अलावा कोई स्थगन नहीं होना चाहिए।
  • यह जांच अधिकारी (आईओ) का कर्तव्य है कि अभियोजन पक्ष और बचाव पक्ष दोनों के गवाहों को आगे रख कर ठीक से सवाल करें और किसी भी अनुचित व्यवहार से उन्हें बचाएं।

न करें-

  • किसी की बुराई या चालाकी मत करें।
  • विभागीय कार्यवाही में प्राकृतिक न्याय के सिद्धांतों पर अमल करें।
  • किसी जांच की पुरी जिम्मेदारी एक ही व्यक्ति को न दें।
  • कभी अपने तरीकों के अनुसार जांच न करें। उसके लिए एक निर्धारित प्रक्रिया है।
  • विभागीय जांच के लिए छह महीने की समय सीमा है जांच अधिकारी (आईओ) द्वारा जांच के दौरान किसी भी मामले में दो से अधिक स्थगन नहीं होना चाहिए।

करें-

  • सच जानने के लिए जांच अधिकारी (आईओ) भी गवाह से सवाल पूछ सकता हैं और वह पूरे मामले की निष्पक्ष और स्पष्ट जाँच कर सकता है।
  • अनुशासनात्मक कार्रवाई सक्षम न्यायालय या अदालत के लिखित आदेश को छोड़कर किसी और के द्वारा नहीं रोका जाना चाहिए।
  • जांच अधिकारी (आईओ) को संक्षिप्त में व्यापार रिकॉर्ड रखने के लिए एक दैनिक आदेश पत्र बनाना चाहिए।
  • याद रखें आरोपी अधिकारी को सबूत देने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता है। अगर वह खुद को अपने ही गवाह के रूप में पेश करता है, तो रक्षा सहायक और अधिकारी से जिरह द्वारा जांच की जा सकती है।
  • याद रखें इसके खिलाफ अपील करने का कोई अधिकार नहीं है, आपकी शक्ति जांच के निरपेक्ष है इसलिए फैसला और रिकॉर्ड विवेकपूर्ण होना चाहिए।
  • नियमित सुनवाई के अंत में अभियोजन पक्ष और बचाव पक्ष दोनों सुनवाई के लिए उपलब्ध रहें, हालांकि उस समय उनके द्वारा बाहर से लाए गए किसी भी प्रासंगिक बिंदु का विश्लेषण नहीं हो सकता, इसलिए उन लोगों से लिखित विवरण लेना बेहतर होगा।

न करें-

  • सिर्फ इसलिए की आरोपी अधिकारी अपने सहायक की व्यवस्था न कर सका प्रारंभिक सुनवाई (पीएच) को स्थगित न करें।
  • दस्तावेज़ों के लिए या उनकी प्रासंगिकता तय करने के लिए गवाह की जांच न करें।
  • आरोपी अधिकारी/पेश अधिकारी/ अभियोजन पक्ष पर गवाहों को बुलाने की जिम्मेदारी नहीं है।
  • आरोप पत्र आरोपी अधिकारी को वितरित नहीं किया गया है, तो जाँच में आगे न बढ़ें।
  • जब आरोपी अधिकारी अनिवार्य सवालों का जवाब दे रहा है तो उसके सहायक को उपस्थिति की अनुमति न दें।
  • आरोपी अधिकारी और पेश अधिकारी को एक साथ छोड़कर किसी घटना के स्थानीय निरीक्षण के लिए मत जाएं।।

करें-

  • जाँच केवल पूछताछ के दौरान इक्ट्ठे किए गए सबूत (मौखिक और दस्तावेजी) के आधार पर किया जाना चाहिए। आरोपी अधिकारी को सबूत को खंडन या गलत साबित करने का मौका नहीं देना चाहिए।
  • साक्ष्य का विश्लेषण करते समय उद्देश्यपूर्ण, विवेकपूर्ण और जांच के दायरे में रहें।
  • एक तर्कसंगत और विवेकपूर्ण व्यक्ति के रुप में सभी सबूतों, परिस्थितियों, टिप्पणीयों और मानव व्यवहार के सामान्य संभावनाओं पर विचार करने के बाद निष्कर्ष निकालें।
  • याद रखें रिपोर्ट पर हस्ताक्षर करने के बाद आप रिपोर्ट में कोई बदलाव नहीं कर सकते हैं।
  • प्रत्येक लेख पर विचार करने के बाद जांच रिपोर्ट में, सबूत और निष्कर्ष के बीच संबंध स्पष्ट करें।

न करें-

  • गवाह के रूप में जो व्यक्ति घटना स्थल पर मौजूद न हो ऐसे व्यक्ति से जानकारी एकत्र न करें।
  • आरोपी अधिकारी द्वारा नियत तारीख के बाद पेश अधिकारी की लिखित संक्षिप्त मत लें। ध्यान से एक जवाब दाखिल करने के लिए आरोपी अधिकारी को उसकी प्रति भेज दें।
  • जांच के दौरान जिसे प्रमाणित नहीं किया जा सकता ऐसी बात या सबूत को मत लें।
  • मामले में अनुमान, रिकॉर्ड, व्यक्तिगत ज्ञान को कोई भी जगह नहीं दी जानी चाहिए।
  • जहां कोई अतिरिक्त गवाह मूल साक्ष्य में कमी या दोष उत्पन्न कर सकता है तो ऐसे गवाह को अनुमति न दें। इस दिशा में विवेक का प्रयोग करते समय सावधान रहें।
  • मुख्य सतर्कता आयोग के नवीनतम निर्देश के अनुसार, विभागीय जांच की रिपोर्ट प्रस्तुत करने में देरी न करें।

करें-

  • किसी भी लोक सेवक के मामले को निपटाने के लिए जांच अधिकारी (आईओ) से अनुरोध किया जा सकता है। गैर-अनुपालन को लोक सेवक आचरण नियम के तहत दंडित किया जा सकता है।
  • अपना बचाव प्रस्तुत करने के लिए आरोपी अधिकारी को सभी आवश्यक अवसर उपलब्ध कराएं और निष्पक्ष रूप से और मजबूती से सुनवाई का संचालन करें, लेकिन उसकी अनुचित मांगों या टालमटोल के दांवपेंचों को अस्वीकार करें।
  • अभियोजन पक्ष के मामले में पूर्ववर्ती द्वारा मामले की सुनवाई की जा सकती हैं। अगर किसी भी स्तर पर भाग लेने के लिए आरोपी आधिकारिक को अनुमति नहीं है। लेकिन आपका निष्कर्ष तार्किक होना चाहिए औऱ निष्कर्ष न्यायिक जांच में सक्षम होना चाहिए।

न करें-

  • मुख्य सतर्कता आयोग द्वारा जारी किए गए 'आदर्श समय सीमा अनुसूची' से परे नहीं जाना चाहिए।